योगी सरकार द्वारा, लव जिहाद एवं धर्म परिवर्तन रोकने का कानून लागू |

योगी सरकार द्वारा, लव जिहाद एवं धर्म परिवर्तन रोकने का कानून  लागू |
khabar khalifa

उत्तर प्रदेश के मुखयमंत्री योगी द्वारा यूपी में, लव जिहाद एवं धर्म परिवर्तन रोकने कानून लागु कर दिया गया हैं| विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन प्रतिषेध अध्यादेश को कैबिनेट मंजूरी के बाद , राज्यपाल के बाद भेजा गया था | जंहा राज्यपाल ने बिल को मंजूरी दे दी हैं |
राज्यपाल से मंजूरी मिलते ही इस बिल को पुरे यूपी में लागु कर दिया गया हैं | अध्यादेश को 6 महीने के भीतर विधान मंडल के दोनों सदनों में पारित कराना होगा |

आखिर क्या है विधि विरुद्ध धर्म परिवर्तन कानून , क्यों लागू किया जा रहा ?
दरअसल योगी सरकार द्वारा ये बिल जबरन धर्म परिवर्तन, छल एवं धोखाधड़ी एवं लव जिहाद के खिलाफ बनाया गया है | इसके अनुसार एक धर्म का दूसरे धर्म में परिवर्तन सिर्फ शादी के लिए हो, तो ये अपराध मन जायेगा | धोखा करके छल करके, या प्रेम में फसाकर उसका धर्म परिवर्तन करना एक जुर्म की श्रेणी में आएगा | सिर्फ विवाह के मकसद किसी का धर्म परिवर्तन करना एक अपराध माना जायेगा | ऐसा करने वालो के साथ सरकार अब सख्त होगी |
वही राज्यपाल से मंजूरी के बाद ये बील काफी प्रभावी हो गया है | इसके अनुसार अगर कोई अपना धर्म विवाह के लिए परिवर्तित करता है| तो दोनों पक्षों को विहित प्राधिकारी के समक्ष स्वीकार्य करना होगा, की वो ये धर्म अपनी मर्जी से स्वीकार्य कर रहे रहे है| उनके ऊपर किसी भी प्रकार कादबाव नहीं है | और ऐसा करने के लिए न ही उन्हें किसी चीज़ का प्रलोभन दिया गया है |

योगी सरकार द्वारा, लव जिहाद एवं धर्म परिवर्तन रोकने का कानून  लागू |

क्या है दंड का प्रावधान ?

इस अध्यादेश के अनुसार धोखाधड़ी एवं झांसा देकर,जबरन धर्म परिवर्तन करना अब अपराध की श्रेणी में आएगा | वही दूसरी ओर सिर्फ शादी के लिए धर्म परिवर्तन करवाना भी अमान्य होगा |
अध्यादेश में इसका पूरा प्रावधान किया गया हैं| धर्म परिवर्तन के लिए सम्बंधित पछो को 2 महीने पहले मजिस्ट्रेट के पास अर्जी देनी होगी | ऐसा न करने पर
10000 तक का जुर्मना, एवं 6 माह से लेके 3 वर्ष तक की जेल हो सकती है |
वही दूसरी तरफ दबाव डालकर अगर किसी का धर्म परिवर्तन कराया गया तो , ये अपराध माना जायेगा | इसके लिए दोषी के ऊपर गैरजमानती मुकदमा चलेगा| यह मुकदमा प्रथम श्रेणी के मजिस्ट्रेट न्यायालय में चलेगा| दोष सिद्ध होने पर 1 से लेके 5 वर्षो की सजा तथा ,15000 तक जुर्मानें भरना होगा| वही अगर ये मामला अनुसूचित जातीय या अवयस्क महिला का मिला तो, दोषी को 10 साल तक कारावास एवं 25000 तक का जुर्माना भरना होगा |

योगी सरकार द्वारा, लव जिहाद एवं धर्म परिवर्तन रोकने का कानून  लागू |

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *