महाराष्ट्र : शॉर्ट सर्किट की वजह से दर्दनाक हादसा ,10 नवजात शिशुओं की हुई मृत्यु |

महाराष्ट्र :  शॉर्ट सर्किट की वजह से दर्दनाक हादसा ,10 नवजात शिशुओं की हुई  मृत्यु |
khabar khalifa

लापरवाही छोटी हो या बढ़ी वो हमेशा ही नुकसानदायक ही होती है और कभी कभी तो एक छोटी सी लापरवाही कितनी भारी पड़ जाती है ईसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता | एक ऐसी ही ह्रदय विदारक घटना हमारे सामने आयी है | जहा अस्पताल वालो की लापरवाही की वजह से 10 नवजात शिशुओं की मृत्यु हो गयी |
महाराष्ट्र के भंडारा में शुक्रवार देर रात दर्दनाक हादसा हुआ। रात दो बजे भंडारा के जिला अस्पताल के बीमार नवजात देखभाल इकाई (एसएनसीयू) में आग लगने से 10 शिशुओं की मौत हो गई। यूनिट से सात शिशुओं को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया। इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दुख जाहिर किया है। उन्होंने इसे हृदय विदारक हादसा करार दिया। उधर, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस हादसे को दर्दनाक बताया। उन्होंने राज्य सरकार से अपील की है कि वह मृतकों और घायलों के परिजनों को हरसंभव मदद मुहैया कराएं।

अस्पताल में बच्चों की मौत के मामले में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी दुख जताया है। उन्होंने स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे, जिला कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक से इस हादसे को लेकर बातचीत की। साथ ही, मामले की जांच के आदेश दिए हैं। उधर, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने इस हादसे को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। उन्होंने कहा कि मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं। ईश्वर उन्हें यह असहनीय दुख सहने की शक्ति दे।
बताया जा रहा है कि इन बच्चों की उम्र एक दिन से लेकर तीन महीने तक थी।

आखिर कौन है जिम्मेदार |

अस्पताल की एक लापरवाही ने इन बच्चों की जान ले ली। जानकारी के मुताबिक आईसीयू वार्ड में कुल 17 बच्चे मौजूद थे जिनमें से सात को ही बचाया जा सका। बताया जा रहा है कि ड्यूटी पर मौजूद नर्स ने रात करीब दो बजे वार्ड का दरवाजा खोला तो अंदर धुआं ही धुआं था। उसने तुरंत अधिकारियों को इस बारे में बताया। इसके बाद मौके पर फायर ब्रिगेड की गाड़ियां पहुंची और आग पर काबू पाया। लेकिन तब तक 10 मासूमों की जिंदा जलकर मौत हो गई थी। आग लगने की वजह अभी तक सामने नहीं आई है। सूत्रों के मुताबिक, इसकी वजह शॉर्ट सर्किट है

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *