किसान आंदोलन का 31 वा दिन ,दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस की सभी लाइन बंद |

किसान आंदोलन का 31 वा दिन ,दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस की सभी लाइन बंद |
khabar khalifa

किसान आंदोलन का 31 वा दिन ,दिल्ली मेरठ एक्सप्रेस की सभी लाइन बंद |
कृषि कानून बिलो के खिलाफ किसान लगातार दिल्ली के सिंधु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे है | किसान और सरकार के बिच कई दफा बातचीत भी हुयी लेकिन किसी बात का कोई निष्कर्ष नहीं निकला है | आज दोपहर 2 बजे किसान सयुक्त मोर्चा की होगी बैठक| जहा वे सरकार की चिट्ठी और प्रस्ताव पर करेंगे विचार| |
सयुक्त मोर्चा में शामिल है 40 किसान| किसान सरकार से कृषि बिल को वापिस लेने की मांग कर रहे है | |तो वही राहुल गाँधी ने किसान आंदोलन के समर्थन में ट्ववीट किया है | बोले मिट्टी का कण कण गूंज रहा है| सरकार को किसानो की बात सुननी ही होगी |

यूपी और उत्तराखंड से किसान आंदोलन में पहुंच रहे है किसान ,गाजीपुर बॉर्डर पर बढ़ा जमावड़ा |

करीब 300 से ज्यादा कार एवं ट्रॉलियां गाजीपुर बॉर्डर पहुंची | प्रशाशन और पुलिस के अधिकारी रहे मौके पर तैनात | तो वही दूसरे ओर आज करीब 12000 किसानो की आने संभावना | गाजीपुर बॉर्डर पर देर रात तक आता रहा जमावड़ा |

पुलिस और किसान में हुई टक्कर |

पुलिस की बैरेकेटिंग तोड़कर यूपी की सिमा में घुस आये किसान | जिसपर पुलिस ने कहा प्रदर्शनकरी किसानो का विडिओग्राफी जारी करके दर्ज कराया जायेगा केस |

गाजीपुर बॉर्डर बनी टेंट सिटी |

गाजीपुर बॉर्डर पर टेंट सिटी बनाकर आंदोलन कर रहे किसानो की मदद के लिए कर रहे पहल | किसानो की बढ़ती भीड़ को देखकर बढ़ाई गयी रसद इंतेजाम में जुटे नौजवान |
वही सिंधु बॉर्डर पर भी किसान का जुटान जारी पोस्टर लेके कर रहे प्रदर्शन |

मिटटी का कण कण गूंज रहा है : राहुल गाँधी

तो वही राहुल गाँधी ने बोला है की ,मिटटी का कण कण बोल रहा है सरकार को उनकी बात सुननी ही होगी |
हम किसान है आतंकी नहीं |

प्रदर्शन कर रहे एक किसान का बोलना है की जब हम देश के लिए लड़ते है तो हम देश भक्त हो जाते है| लेकिन जब हम अपने लिए लड़ते है| तब हमको आतंकी बोल दिया जाता है |तो वही पर प्रदर्शन कर रहे किसानी का बोलना है की जब तक सरकार हमारी मांगे पूरी न कर देती है और कानून वापस न ले लेती हम प्रदर्शन करते रहेंगे |

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *