किसान अंदोलन : लगातार बढ़ता ही जा रही किसानो की सरकार के प्रति नाराजगी |

किसान अंदोलन : लगातार बढ़ता ही जा रही  किसानो की सरकार के प्रति नाराजगी |
khabar khalifa

सरकार द्वारा पारित नए कृषि कानूनों की वापसी को लेके दिल्ली की सीमाओं पर किसानो द्वारा लगातार प्रदर्शन जारी है | सरकार और किसानो के बिच कई दफा बातचीत भी हुई जिसका कोई निष्कर्ष सामने नहीं आया | तो वही दूसरी ओर सरकार और अन्नदाताओ के बिच तनाव काफी बढ़ता ही जा रहा है|
आंदोलन कर रहे किसानों की सरकार के रवैये से नाराजगी बढ़ती जा रही है। किसानों ने साफ कहा है कि सरकार को अभी ट्रैक्टर मार्च से केवल ट्रेलर दिखाया गया है और अब पूरी फिल्म दिखाई जाएगी। इसके बाद ही सरकार को किसानों की ताकत का अहसास होगा। 
किसानों और सरकार के बीच लगातार बातचीत के बावजूद कोई हल निकलता नहीं दिख रहा है और किसानों पर कानून में संशोधन के लिए मानने का दबाव बनाया जा रहा है। इसलिए किसान अब आंदोलन को बढ़ाने में जुट गए है और गणतंत्र दिवस की किसान परेड की सफलता के लिए पूरा जोर लगाया जाएगा।
किसान कृषि कानून रद्द करने की मांग को लेकर दिल्ली के बॉर्डर पर किसान बैठे हुए हैं।

ठंड व बारिश के बावजूद 44 दिन से किसानों का आंदोलन चल रहा है लेकिन इतने दिन बीतने के बाद भी समस्या का कोई समाधान नहीं हो रहा है। सरकार से आठ दौर की बातचीत अभी तक हो चुकी है वहीं एक बार गृहमंत्री अमित शाह तक से किसान मिल चुके हैं। 

इस बार बात आर या पार की होगी |

हर बार किसानों को आश्वासन दिया जाता है कि इस बार बैठक में कोई न कोई फैसला जरूर होगा और किसान भी कोई हल निकलने की उम्मीद के साथ जाते हैं। हर बार सरकार और किसानों की बैठक उसी जगह आकर खत्म हो जाती है, जहां कई महीने पहले शुरू हुई थी। वहीं किसान नेताओं के अनुसार अभी तक सरकार के मंत्री कानूनों को लेकर कोई हल निकालने का आश्वासन देते थे। इस बार मंत्रियों ने साफ कह दिया कि वह कानून रद्द करने की जगह संशोधन की बात करें। इस पर किसान नेताओं ने भी साफ कर दिया है कि सरकार भी संशोधन की जगह केवल कानून रद्द करने पर बात करे। 

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *