किसान अंदोलन: किसान ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में सरकार को ठहराया जिम्मेदार |

किसान अंदोलन: किसान ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में सरकार को ठहराया जिम्मेदार |
khabar khalifa

किसान आंदोलन लगातार भयानक रूप लेता जा रहा है गाजीपुर बॉर्डर पर किसान कश्मीर सिंह ने आत्महत्या कर ली| साथ ही उन्होंने सुसाइड नोट भी लिखा है | जिसमे उन्होंने अपनी मौत का जिम्मेदार सरकार को ठहराया है | किसान कश्मीर सिंह का शव बिना पोस्टमार्टम के ही उनके घर ले जाया गया | कश्मीर सिंह निवासी बिलासपुर, जनपद रामपुर जिन्होंने किसान आंदोलन में किसानों की तकलीफ और 54 किसानों की मृत्यु से आहत होकर गाजीपुर बॉर्डर पर आत्महत्या करके अपनी जान दे दी।

किसान अंदोलन: किसान ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में सरकार को ठहराया जिम्मेदार |

किसानो ने रखा मौन व्रत कहा, मृतक किसान का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा |

आज भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति  के दर्जनों कार्यकर्ताओं एवं किसानों ने, चिल्ला बॉर्डर धरनास्थल पर मौन धारण कर शहीद सरदार कश्मीर सिंह को श्रद्धांजलि अर्पित की | और यह संकल्प लिया कि शहीद किसानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा जब तक सरकार तीन काले कानूनों को वापस नहीं लेती है तथा एमएसपी पर गारंटी कानून नहीं बनाती है तब तक भारतीय किसान यूनियन लोकशक्ति अंतिम क्षण तक इस लड़ाई को लड़ती रहेगी।

किसान अंदोलन: किसान ने की आत्महत्या, सुसाइड नोट में सरकार को ठहराया जिम्मेदार |

सुसाइड नोट में लिखा कि मेरा अंतिम संस्कार मेरे पोते-बच्चे के हाथों यहीं दिल्ली-यूपी बॉर्डर पर हो |

किसान कश्मीर सिंह ने सुसाइड नोट में लिखा की, मेरा अंतिम संस्कार यही दिल्ली यूपी बॉर्डर पर मेरे पोते बच्चे के हाथो होना चाहिए | यूपी पुलिस ने सुसाइड नोट अपने कब्जे में ले लिया है | सुसाइड नोट में उन्होंने अपने मरने का कारण सरकार को बताया है | उन्होंने लिखा है की आखिर कब तक हम इस सर्दी में यह प्रदर्शन पर बैठे होंगे | साथ ही ये भी लिखा है की सरकार हमारी बात नहीं सुन रही इसलिए मैं अपनी जान देके जा रहा हू | सुसाइड नोट पंजाबी में लिखा गया है इसको हिंदी में अनुवाद कराया गया |

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *