अस्वीकार्य विचित्र या अदभुत : गांव में इंसान से लेके ,पशु पंछी सब है अंधे |

अस्वीकार्य विचित्र  या अदभुत :  गांव में  इंसान से लेके ,पशु पंछी सब है अंधे |
khabar khalifa

हमारे आस पास कुछ ऐसी घटनाये होती रहती है| जिसको देखकर या सुनकर उसकी वास्तविकता पर भरोसा नहीं हो पाता | कुछ विचित्र बाते जो इंसान को चौका देती है | मानव उनपर यकीन नहीं कर पता | कुछ ऐसी ही बात आज हम यह पर बताने वाले है | जिसे यकीनन सुनकर आप विश्वास नहीं कर पाएंगे | किन्तु जब आप इस बात की पूरी जानकारी लेंगे तब आप उसके सत्य से अवगत हो पाएंगे |
गांव ये शब्द सुनकर हमेशा ही हमारे दिमाग में एक ही छवि आती है वो है ,खेत, बाग बगीचे,साधारण लोग साधारण, रहन सहन और तमाम अन्य ऐसी बाते जिसको सोचकर, या सुनके मन एवं दिमाग को सुकून मिलता है | लेकिन अगर हम आपको बताये की एक ऐसा गांव जहा पर ना सिर्फ इंसान बल्कि वहा के पशु पंछी भी अंधे है| तो आप यकीन नहीं कर पाएंगे | किन्तु ये सत्य है

अस्वीकार्य विचित्र  या अदभुत :  गांव में  इंसान से लेके ,पशु पंछी सब है अंधे |
हम बात कर रहे है भारत के एक गांव टिल्टेपक की| जहा जोपोटेक नाम की जनजाति रहती है | यहाँ न केवल इंसान बल्कि जानवर से लेके पशु पंछी सारे ही अंधे है । यह गांव बड़ा ही विचित्र है| तथा यह खुद के जीवन शैली को अपनाता है। सबसे हैरान कर देने वाली बात यह है कि, इस गांव में आपको कोई भी एक ऐसा व्यक्ति नहीं मिलेगा जो आंखों से देख पाता हो। गांव के सारे के सारे लोग अंधे हैं| गांव के लोगो का कहना है की ये सब गांव के एक शापित पेड़ को देखने की वजह से होता है | जन्म के समय इन्सान बिल्कुल ठीक रहता है | बाद में उस पेड़ को देखने के बाद ऐसा होता है | हालांकि वैज्ञानिको ने इस तथ्य को स्वीकारने से इंकार कर दिया है | उनका मानना है की ऐसा जहरीली काली मक्खी की वजह से होता | जिसके काटने की वजह से शरीर में जहर फैलने लगता है| लेकिन इसका सबसे पहले असर इंसान की आँखो पर होता है | जिसकी वजह से इंसान अँधा हो जाता है |

गांव के किसी भी घर में नहीं है, एक भी खिड़की |

तो वही दूसरी चौकाने वाली बात ये है की, करीब 300 की आबादी वाले इस गांव में एक भी घर में खिड़की नहीं है | वजह पूछने पर पता चला की आँखों की रौशनी चली जानें की वजह से, उनको सूर्य की रौशनी होने न होने से कोई परेशानी नहीं होती |

|

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *