एसडीएम और कानूनगो ने BSP नेता को आत्महत्या के लिए किया मजबूर।

एसडीएम और कानूनगो ने BSP नेता को आत्महत्या के लिए किया मजबूर।
khabar khalifa

बहुजन समाज पार्टी के एक नेता और स्थानीय किसान ने अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कथित रूप से आत्महत्या कर ली है। 35 वर्षीय हरवीर ने अपने सुसाइड नोट में सब-डिवीजनल मजिस्ट्रेट और रेवेन्यू ऑफिसर के खिलाफ उत्पीड़न और भ्रष्टाचार के आरोप लगाए हैं। हरवीर 5 बच्चों के पिता थे जो दलित समुदाय से थे और अक्सर सहसवान तहसील जाते रहते थे,जानकारी के मुताबिक़ शनिवार को जहर खाने से पहले भी वे 2 बार तहसील गए थे। जहर खाने के बाद घर आकर अपने परिवार को उन्होंने इसकी जानकारी दी जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया जहाँ उन्होंने दम तोड़ दिया।

सुसाइड नोट है दिल दहालने वाला।

हरवीर ने एक सुसाइड नोट लिखा था जिसमे उन्होंने आरोप लगाया कि कानूनगो अधिकारी ओमकार ने उन्हें आवंटित किए गए खेत के भूखंड के विस्तार के लिए 50,000 रुपये की मांग की थी और एसडीएम किशोर गुप्ता ने उनके साथ दुर्व्यवहार किया और उन्हें धमकाया था।बता दें कि पिछले विधानसभा चुनाव में हरवीर को बीएसपी का चुनाव प्रभारी नियुक्त किया गया था। उनके भाई जयवीर सिंह का कहना है कि , “हरवीर को 2006 में खेती के लिए जमीन का टुकड़ा आवंटित हुआ , इसके नवीनीकरण को लेकर अधिकारी परेशान कर रहे थे, हरवीर को इस काम के लिए कार्यालयों के चक्कर लगाने पड़ते थे और फिर इसी दौरान एसडीएम और कानूनगो ने 50,000 रुपये की रिश्वत की मांग की , हमने पुलिस को एक लिखित शिकायत भी दी थी।” आपको बता दें अभी तक पुलिस एसडीएम के ख़िलाफ़ कोई कार्यवाही नहीं कर पाई है।
मामले में एसएसपी संकल्प शर्मा ने कहा है, “कानून के अनुसार ऐसे मामले में सीधे सरकारी अधिकारी के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की जा सकती है। कानुनगो को दोषी पाए जाने पर जिला मजिस्ट्रेट ने निलंबित कर दिया है। परिवार को सरकारी की एक योजना के तहत मुआवजा देने का वादा किया गया है।”

khabar khalifa

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *