लखनऊ : OYO में प्रेमी ने की प्रेमिका की हत्या,दोनों की चैटिंग से हुए बड़े खुलासे।

लखनऊ : OYO में प्रेमी ने की प्रेमिका की हत्या,दोनों की चैटिंग से हुए बड़े खुलासे।
khabar khalifa

राजधानी के एक होटल में प्रेमी ने प्रेमिका की गला घोंटकर हत्या कर दी, परिजनों को सूचना देने के बाद खुद फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। होटल मैनेजर ने वारदात की जानकारी देर रात पुलिस को दी। पीजीआई पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वहीं पुलिस मामले की जांच कर रही है। एडीसीपी पूर्वी एसएम कासिम आबिदी के मुताबिक पीजीआई थानाक्षेत्र के वृंदावन सेक्टर-10 में स्क्वायर होम्स के नाम से होटल है। होटल में मंगलवार को 4.30 बजे प्रेमी युगल शुभम वर्मा (23) व दिव्या कन्नौजिया (21) पहुंचे। दोनों ने कुछ देर के लिए होटल का कमरा बुक कराया था। मालूम हो कि होटल तक एक युवक स्कूटी से दोनों को छोड़ने गया था। दोनों होटल के कमरा नंबर 106 में ठहरे थे। वहां करीब ढाई घंटे साथ रहने के बाद शुभम ने दिव्या के दुपट्टे से ही उसका गला घोट दिया और खुद भी उसी उसी दुपट्टे से फांसी लगा ली।

मरने से पहले मृतक ने किया था भाई को फोन।

मृतक शुभम रजनीखंड शारदानगर का रहने वाला था,वहीं दिव्या सूर्य नगर मानकनगर की रहने वाली थी। दोनों के बीच दो साल से संबंध थे। इसकी जानकारी दोनों के परिवारों को थी। वारदात स्थल पर दोनों के मोबाइल मिले हैं। इससे कई सुराग हाथ लगे हैं। पुलिस के मुताबिक शुभम के मोबाइल से अंतिम कॉल भाई को किया गया था। भाई से पूछताछ में सामने आया कि शुभम ने कहा कि उसने दिव्या की हत्या कर दी है। अब वह खुद भी फांसी लगाने जा रहा है। दिव्या ने उसके साथ धोखा दिया है। उसके साथ बेवफाई की है। उसकी सजा दे दी है। इसके बाद उसने कॉल डिस्कनेक्ट कर दिया। पुलिस के मुताबिक शुभम ने अपने भाई से करीब चार मिनट तक बातचीत की थी। करीब ढाई घंटे से अधिक समय तक प्रेमी युगल कमरे में बंद थे। इसी दौरान युवती की हत्या कर दी गई। युवती की चीख पुकार भी होटल के किसी कर्मचारी ने नहीं सुनी। जबकि उसका गला घोंटकर मारा गया था। वहीं होटल के रिकार्ड के मुताबिक प्रेमी युगल के आसपास के दोनो कमरे भी बुकिंग पर थे, उसमें भी लोग मौजूद थे।

चेकआउट की याद आने के बाद ,हुआ संदेह।

पुलिस के मुताबिक होटल के मैनेजर गौरव सिंह से पूछताछ में सामने आया कि दोनों के आने के पांच घंटे बाद रात करीब 9.10 बजे चेकआउट की याद आई। उसने पहले कमरा नंबर 106 के इंटरकॉम नंबर पर कॉल किया। लेकिन कॉल रिसीव नहीं की गई। वहीं इसके बाद गौरव ने शुभम के मोबाइल नंबर जो रजिस्टर में दर्ज था। उस पर कॉल की। मैनेजर गौरव केमुताबिक 9.13 बजे से लेकर 10.14 बजे के बीच उसने शुभम के मोबाइल पर 17 बार कॉल किया। लेकिन कोई भी कॉल रिसीव नहीं किया गया, इस पर उसे संदेह हुआ तो उसने कर्मचारी को भेजा। कई बार दरवाजे पर दस्तक देने के बाद भी नहीं खुला। इस पर गौरव खुद पास के वृंदावन चौकी पर सूचना देने गया।

दरवाजा तोड़ते ही लोग हुए हताहत।

पुलिस ने जब दरवाजा तोड़ा तो अंदर का नजारा देखकर हतप्रभ रह गई। अंदर बेड पर दिव्या का शव पड़ा था ,वहीं शुभम का शव पंखे से लटक रहा था। पुलिस के मुताबिक दिव्या का गला घोंटा गया था। करीब 2.30 बजे पुलिस ने दोनों शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इसके बाद पुलिस वापस चली गई। मैनेजर के मुताबिक पुलिस ने उनसे कमरे की चाबी नहीं मांगी थी। इस लिए तत्काल कमरे की साफ-सफाई करवा दी। इस मामले में पुलिस की लापरवाही पूरी तरह से दिख रही है। पुलिस ने पूरे क्राइम सीन को सील करने के बजाए छोड़ दिया। वहीं दूसरे दिन सुबह पुलिस के अधिकारी कमरे की पड़ताल करने पहुंचे। जिसकेबाद कमरे की चाबी पुलिस ने अपने पास ले ली है।

दोनों की चैटिंग से हुआ बड़ा खुलासा।

पुलिस के मुताबिक दोनों के मोबाइल को जब्त कर लिया गया है। उनके मोबाइल की पड़ताल की गई है। दोनों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप पर सैकड़ों मैसेज भेजे हैं। पुलिस ने मोबाइल को जांच के लिए भेज दिया है। वहीं उनके करीबियों से पूछताछ की जा रही है कि क्या मामला था कि दोनों के प्यार में इस तरह की नफरत पैदा हो गई। हत्या की जानकारी होते हुए भी परिवारीजनों ने पुलिस को सूचना नहीं दी। पुलिस को संदेह है कि शुभम के परिवारीजन कुछ बातें छिपा रहें है। जिनके बारे में पूछताछ की जाएगी। वहीं दिव्या के परिवारीजनों ने कोई आरोप नहीं लगाया है। एडीसीपी पूर्वी के मुताबिक परिवारीजन जो भी तहरीर देंगे उसके आधार पर कार्यवाही की जाएगी।

khabar khalifa

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *