JNU प्रशासन ने फीस बढ़ोतरी के लिए बढ़ते खर्च की दी दलील

JNU प्रशासन ने फीस बढ़ोतरी के लिए बढ़ते खर्च की दी दलील
khabar khalifa

दिल्ली: पिछले कई दिनों से जेएनयू में फीस बढ़ोतरी को लेकरके विरोध प्रदर्शन के बीच में जेएनयू प्रशासन का एक एक बयान आया हैं जिसमें जीएनयू प्रशासन ने बताया हैं की वो इस वक़्त 45 करोड़ रुपये के घाटे में चल रहा हैं और इसकी वजह हैं बिजली और पानी का अधिक बिल और कॉन्ट्रैक्टचुअल स्टाफ की सैलरी हैं। गुरुवार की रात विश्वविद्यालय प्रशासन ने छात्रावास के विषय पर एक फैक्स शीट जारी करते हुए बताया कि UGC की तरफ से दिये जाने वाले सैलरी में अनुबंधित कर्मचारियों को हॉस्टल के लिए अलग से पैसा नहीं दिया जाता और विश्वविद्यालय के हॉस्टल में ऐसे कर्मचारियों की संख्या 450 से ज्यादा है।

जीएनयू टीचर्स एसोसिएशन के सदस्य मिले सरकार से

गुरूवार को जीएनयू टीचर्स एसोसिएशन के 30 सदस्यीय प्रतिनिधि मंडल ने एमएचआरडी- एप्पोइंटेड समिति से मुलाक़ात कर उन्हें एक मेमोरेंडम सौंपा जिसमें ये बताया गया हैं की जबतक विश्विद्यालय फीस बढ़ोतरी के फैसले को वापस नहीं लेती हैं तब तक हालत सामान्य नहीं होंगे। टीचर्स एसोसिएशन ने विश्विद्यालय प्रशासन की फ़िज़ूलखर्ची पर सवाल खड़े किये।

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *