हरिद्वार : कुंभ के इतिहास में पहली बार किन्नर अखाड़े की निकाली गई पेशवाई ।

हरिद्वार :  कुंभ के इतिहास में पहली बार किन्नर अखाड़े की निकाली गई पेशवाई ।
khabar khalifa

हरिद्वार में श्री पंच दशनाम जूना,अग्नि और किन्नर अखाड़े की पेशवाई शाही अंदाज में निकली। गुरुवार का दिन इतिहास में दर्ज हो गया।
किन्नर, ये शब्द तो सुना ही होगा,भड़कीले कपड़े पहनना ,मेकप करना,नृत्य करना आदि क्रियाएं उनके जीवन का एक हिस्सा है। जन्म संस्कार हो ,या हो शादी समारोह , में शामिल होकर अपनी करतब से समारोह में एक समां बांधते हैं। उनके इन कारनामों को देखने के लिए आसपास लोगो की भीड़ उमड़ जाती है। लोग मनोरंजन भी खूब करते है ,फिर वही भीड़ उनका मज़ाक बनती है ? क्रियाकलापों और पहनावे पर गलत टिप्पड़िया करती है ,ग़लत नजरिए से देखती है।लेकिन किन्नर केवल लोगों का मनोरंजन के नहीं बने हैं बल्कि देश के लिए कुछ कर दिखने के लिए भी उनके अंदर एक जज्बा है। आम इंसान की तरह हर छेत्र में कदम से कदम मिलाकर चल रही हैं।

दर्शन के लिए उमड़ी भीड़।

सबसे पहले हम बात करेंगे संजना सिंह नाम की ट्रांसजेंडर की जो भोपाल में सरकारी नौकरी पाने वाली पहली किन्नर है। जिन्हें सामाजिक न्याय और दिव्यांग कल्याण विभाग के सचिव की निजी सकायक बनाया गया है। मध्यप्रदेश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब ट्रांसजेंडर को सरकारी नौकरी मिली थी। इस तरह की कई ट्रांसजेंडर हैं जो सरकारी नौकरी कर रही हैं। अब इसी कड़ी में हाल ही एक और ऐसी किंनर पहली बार हरिद्वार में श्री पंच दशनाम जूना,अग्नि और किन्नर अखाड़े की पेशवाई शाही अंदाज में निकली। हरिद्वार के लोगों ने किन्नर अखाड़े के संतों का गर्मजोशी से स्वागत किया। हरिद्वार के लिए यह पहला अवसर था जब किन्नर अखाड़े की पेशवाई निकाली जा रही थी। किन्नर अखाड़े के संतों के एक दर्शन के लिए लोगों में उत्सुकता बनी हुई थी।

khabar khalifa

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *