चेन्नई में लोग NRC के खिलाफ मार्च करके सेक्रेटेरिएट तक पहुँचे

चेन्नई में लोग NRC के खिलाफ मार्च करके सेक्रेटेरिएट तक पहुँचे
khabar khalifa

National : नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA), राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (NPR) के खिलाफ बुधवार को तमिलनाडु में विभिन्न संगठनों ने भारी संख्या में मार्च किया। सीएए और एनआरसी के विरोध में तमिलनाडु विधानसभा के घेराव के लिए चेन्नई वलाज रोड से संघीय सचिवालय तक प्रदर्शनकारी एकत्रित हुए।

हाथ में तिरंगा लेकर कर रहे है NRC का विरोध

Chennai People March towards Secretariat against NRC
Chennai People March towards Secretariat against NRC

हाथ में देश का झंडा थामे राष्ट्र गान गाते इन् हज़ारों प्रदर्शनकारियों का कहना है के वे CAA ,NRC, NPR के खिलाफ हैं और इनकी तमिलनाडु सरकार से मांग है कि राज्य की विधान सभा में केंद्र द्वारा लाये गए सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट और नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया जाये। विरोध कर कर रहे लोगों का कहना के CAA, NRC कानून धर्म के आधार पर भेदभाव करता और संविधान के अनुछेद 14 की मूल भावना के खिलाफ है। इनका कहना है की इनकी लड़ाई केवल मुसलमानो के लिए नहीं है बल्कि हर व्यक्ति की है जो इस देश की संविधान में आस्था रखता है।

मद्रास हाईकोर्ट ने नहीं दी है प्रदर्शन की अनुमति

Chennai People March towards Secretariat against NRC
Chennai People March towards Secretariat against NRC

आपको बता दें के चेन्नई के इन् हज़ारों लोगों ने आज इस मार्च के लिए अनुमति मांगी थी परन्तु मद्रास हाईकोर्ट द्वारा प्रदर्शन की अनुमति मंगलवार को नहीं मिलने के बावजूद भी हज़ारों की तादाद में लोग अपने घरों से निकल कर इस मार्च में शामिल हुए। मार्च में एकत्रित लोगों की संख्या को ध्यान में रखते हुए किसी अप्रिय घटना की आशंका को दूर करने के लिए विधानसभा के इलाके में कड़ी सुरक्षा बढ़ा दी गई है। विधान सभा इलाके में भरी तादाद में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। प्रशासन ड्रोन से पुरे इलाके की निगरानी भी कर रहा है। आपको बता दें के पिछले दो महीने CAA, NRC, और NPR के खिलाफ पिछले दो महीने से विरोध प्रदर्शन लगातार उफान पर है। नाटो सरकार अपने फैसले से पीछे हटती मालूम होती है ना ही विरोध कर रहे लोग एक भी क़दम पीछे लेने को तैयार हैं। इस मामले की सुनवाई 24 फ़रवरी को देश की सर्वोच्च अदालत करेगी।

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *