ऑनलाइन बच्चों के साथ हो रहे यौन शोषण को रोकने के लिए सीबाआई ने गठित की नई यूनिट।

ऑनलाइन बच्चों के साथ  हो रहे यौन शोषण को रोकने के लिए सीबाआई ने गठित की नई यूनिट।
khabar khalifa

इंटरनेट इस नाम से तो आप सभी वाक़िफ़ है ,इंटरनेट आज पूरी दुनिया पर राज कर रहा है, पर क्या आपको पता है कि ये जितना लोगो के लिए महत्वपूर्ण है उतना ही नुकसान दायक भी . ये बच्चो के लिए कितना नुकसान दायक है इसका अंदाजा शायद आप लगा भी नहीं सकते, इंटरनेट पर दुनिया भर में बढ़ता बाल यौन शोषण एक वैश्विक समस्या बनता जा रहा है, इस समस्या के वजह से बच्चों का खेलता कूदता बचपन धीरे धीरे बर्बाद हो रहा है। भारत में भी बड़े पैमाने पर बच्चों के प्रति बढ़ते अपराधों को रोकने के लिए सीबीआई ने एक अलग यूनिट भी गठित की है जो देशभर में बच्चों के ऊपर होने वाले ऑन लाइन बाल यौन शोषण को रोकने में मदद करती है। पिछले कुछ सालों में देश में बाल यौन शोषण की एक के बाद एक बड़ी घटनाओं ने मानव समाज का सिर शर्म से झुका दिया है। सरकार की ओर से लगातार कायदे-कानून कड़े किए जाने और देश की सबसे बड़ी अदालत के द्वारा भी संज्ञान लेने के बावजूद भी घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रहीं। आपको बता दें कि हर राज्य, हर शहर और हर जिले में बाल यौन शोषण की खबरें सुनने को मिलती है

नेशनल क्राईम रिकॉर्ड ब्यूरो ने जारी की दिल दहला देने वाली रिपोर्ट।

नेशनल क्राईम रिकॉर्ड ब्यूरो की ओर से 2016 में जारी की गई रिपोर्ट पर नजर डालें तो 2014 में बच्चों के साथ अपराध की 89,423 घटनाएं दर्ज हुईं , 2015 में 94,172 और 2016 में 1,06,958 घटनाएं दर्ज हुईं. 2016 में बच्चों के साथ घटी 1,06,958 इन घटनाओं में केवल 36,022 मामले पॉक्सो एक्ट के तहत दर्ज किए गए, जिसमें सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में 4,954 मामले सामने आए, उत्तर प्रदेश के बाद महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश का नाम आता है ,इंटरनेट पर आने वाली नई नई तकनीक कई बार अनियंत्रित होकर बच्चों के यौन शोषण में कई गुना वृद्दि कर देती है , इसलिए सीबीआई ने ऑनलाइन यौन शोषण को रोकने के लिए नई यूनिट का गठन किया है , सीबाआई की ये यूनिट उन लोगों पर भी निगाह रखने के लिए गठित की गईं है जो ग़लत काम के लिए बच्चों को उकसाते है और इंटरनेट पर ऐसी सामग्री डालते है, इसके साथ ही जो लोग ऐसी चीजों को देखते है उनका डेटा भी यह यूनिट तैयार करती है। नेशनल क्राईम रिकॉर्ड ब्यूरो की जारी रिपोर्ट ही आगे बताएगी की सीबीआई की इस यूनिट का आंकड़ों पर कितना प्रभाव पड़ा है।

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *