बिहार बज़ट 2 लाख 11 करोड़ का केवल 33 फ़ीसदी खर्च : तेजस्वी यादव।

बिहार बज़ट 2 लाख 11 करोड़ का केवल 33 फ़ीसदी खर्च : तेजस्वी यादव।
khabar khalifa

साल 21-22 के बजट पर जिस तरीके से तेज़स्वी ने सरकार को आकड़ों के जाल में घेरने की कोशिश की। उनकी बातों से लगा कि अब उनमें परिवक्वता आ गई है और जो यह एक अच्छा संदेश है। तेजस्वी गुरुवार को बहस के दौरान एक घंटे से ज्यादा समय तक बजट पर बोलते रहे.राष्ट्रीय जनता दल के नेता ने अपने आंकड़ों की बदौलत सरकार को पूरी तरह से घेरा। हालांकि बिहार के उपमुख्यमंत्री और वित्त मंत्री तारकिशोर प्रसाद ने उनके आंकड़ों को भ्रामक बताकर निकलने की कोशिश जरूर की,उनमें वो आत्मविश्वास नहीं दिख रहा था। तेजस्वी ने भाषण के दौरान अपने माता-पिता यानि लालू-राबड़ी देवी के 15 सालों के शासन की तुलना बीजेपी-जेडीयू के 15 साल के शासनकाल से कर ये साबित करने की कोशिश की कि उनके माता-पिता का राज आज की तुलना में अच्छा था।

1990 से अब तक बजट में केवल 8 गुना ही वृद्धि।

तेजस्वी में बीजेपी पर प्रहार करते हुएकहा कि 2005 में जब नीतीश कुमार की सरकार सत्ता में आई थी तब बिहार के बजट का आकर 24 हजार करोड़ है जो 2020-21 तक बढ़कर 2 लाख 11 हजार करोड़ हो गया, यानी बजट का आकार करीब 8 गुना बढ़ा। उन्होंने आगे कहा जब लालू प्रसाद यादव 1990 में बिहार की सत्ता में आए थे तो बिहार का बजट 3 हजार करोड़ था जो आरजेडी के शासन खत्म होने तक 24 हजार करोड़ तक पहुंचा यानि इनमें भी 8 गुना की वृद्धि हुई थी , इसलिए वर्तमान और बीती सर्कार में कोई अंतर नहीं है।

यादव ने की अपनी सरकार की तारीफ़।

सदन में बहस के दौरान तेजस्वी यादवने आरोप लगते हुए कहा कि भले ही बिहार का बजट आकार 2 लाख 11 करोड़ था लेकिन वर्तमान सरकार बजट का केवल 70 हजार करोड़ रुपये ही सरकार खर्च कर सकी है जबकि 1 लाख 41 हजार करोड़ अभी खर्च नहीं हुए हैं। अपनी सरकार की तारीफ़ करते हुए आगे कहा कि हमारी सरकार के दौरान राज्य के आतरिक संसाधनों की हिस्सेदारी 20 फीसदी थी जो कि अब ये घटकर 18 प्रतिशत हो गई है।

khabar khalifa

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *