Arvind Kejariwal का दिल्ली हिंसा पर सख्त रुख

Arvind Kejariwal का दिल्ली हिंसा पर सख्त रुख
khabar khalifa

Delhi: दिल्ली में सीएए के विरोध में भड़की हिंसा में लगभग 20 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। इतना ही नही, लगभग 200 से ज्यादा लोगों के घायल होने की भी खबर है। फिलहाल दिल्ली में शांति- व्यवस्था बनाए रखने के लिए न सिर्फ पीएम मोदी बल्कि गृह मंत्री अमित शाह तथा केजरीवाल(Arvind Kejariwal) के साथ-साथ अन्य नेताओं ने भी लोगों से अपील की है कि वह दिल्ली में शांति-व्यवस्था बनाए रखें।

सीएम केजरीवाल(Arvind Kejariwal) ने आर्मी बुलाने की अपील

Arvind Kejariwal Might take strict action In delhi violence
Arvind Kejariwal Might take strict action In delhi violence

आपको यह भी बता दें, बार-बार शांति की अपील करने पर भी दिल्ली में कई जगहों पर पथराव होता रहा। इस पर सीएम केजरीवाल (Arvind Kejariwal)ने सख्त रुख अपना लिया। और उन्होंने एक सीएम का पावर दिखाते हुए दंगाइयों को जता दिया कि एक मुख्यमंत्री अपनी जनता की भलाई तथा शांति-व्यवस्था बनाये रखने के लिए क्या-क्या कर सकता है। दरअसल सीएम केजरीवाल(Arvind Kejariwal) दंगाइयों से निपटने के लिए सेना बुलाने की बात कही। उन्होंने कहा कि मैं फिर से गृहमंत्री से अपील करता हूँ, कि दिल्ली में हालात को काबू करने के लिए आर्मी को बुलाया जाए। हालाँकि गृहमंत्री अभी तक आर्मी भेजने पर कोई भी फैसला नहीं लिया है।

गृहमंत्री ने दिया हर संभव मदद का आश्वासन

Arvind Kejariwal Might take strict action In delhi violence
Arvind Kejariwal Might take strict action In delhi violence

आपकी जानकारी के लिए यह भी बता दें, दिल्ली हिंसा पर काबू पाने के लिए गृहमंत्री अमित शाह ने सर्वदलीय बैठक के दौरान सीएम केजरीवाल (Arvind Kejariwal)को आश्वासन दिया था कि केंद्र सरकार उन्हें हर तरह की सहायता देगी। फिलहाल दिल्ली हिंसा पर खुद गृहमंत्री नजर बनाए हुए हैं और केजरीवाल जो भी कदम उठाएंगे उसमें गृहमंत्री का समर्थन प्राप्त होगा। फिलहाल दिल्ली हिंसा पर काबू पाने के लिए एनएसए अजित डोवाल को ज़िम्मेदारी दी गयी है। एनएसए ने कल दंगे प्रभावित इलाकों का दो बार दौरा किया साथ ही साथ वह रहने वाले आम नागरिकों से बातचीत करके उनका हाल जाना।

khabar khalifa
administrator

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *