यौन उत्पीड़न मामले में, बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगायी रोक |

यौन उत्पीड़न मामले में,  बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगायी रोक |
khabar khalifa

यौन उत्पीड़न को लेकर हाल ही में बॉम्बे हाई कोर्ट ने एक अजीबोगरीब फैसला सुनाया था, जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को रोक लगा दी है।देश के मुख्य न्यायाधीश एसए बोबडे की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने मामले के आरोपी को नोटिस जारी किया है और दो सप्ताह में जवाब देने का निर्देश दिया है। बॉम्बे हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में यूथ बार एसोसिएशन आफ इंडिया ने याचिका दाखिल कर चुनौती दी है।

 बॉम्बे हाईकोर्ट की नागपुर पीठ की जस्टिस पुष्पा गनेडीवाला ने  अपने फैसले में कहा था कि  किसी नाबालिग के कपड़े उतारे बिना उसके वक्षस्थल को छूना यौन हमला नहीं कहा जा सकता।  यौन हमले के लिए यौन मंशा से त्वचा से त्वचा का संपर्क होना जरूरी है। इस तरह के कृत्य को बाल यौन अपराध संरक्षण (POCSO) अधिनियम के तहत यौन हमले के रूप में नहीं ठहराया जा सकता। यौन हमले के लिए यौन मंशा से त्वचा से त्वचा का संपर्क होना जरूरी है। हाई कोर्ट के इस फैसले पर सामाजिक कार्यकर्ताओं ने आपत्ति जताई थी और सुप्रीम कोर्ट जाने की बात कही थी।

यौन उत्पीड़न मामले में,  बॉम्बे हाई कोर्ट के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगायी रोक |
khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *