बाल दिवस का सफर

बाल दिवस का सफर
khabar khalifa

आज 14 नवंबर को पुरे देश में बाल दिवस के रूप में मनाया जाता हैं, इस दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन भी होता और भारत में उन्हीं की याद में बाल दिवस मनाया जाता हैं क्यूंकि पंडित नेहरू को बच्चों से अत्यंत लगाव था। लेकिन क्या आपको पता बाल दिवस की शुरुआत कब हुई तो आइये हम बताते हैं की बाल दिवस की शुरुआत कब हुई।

बाल दिवस की शुरुआत पूरी दुनिया में 1925 में हुई लेकिन इसे मान्यता संयुक्त राष्ट्र ने 1953 में दी तबसे पुरे विश्व में 20 नवंबर को बाल दिवस के रूप में मनाया जाने लगा। भारत में 1964 तक बाल दिवस 20 नवंबर को ही मनाया जाता था लेकिन पंडित नेहरू की मृत्यु के बाद सरकार ने निर्णय लिया की उनकी याद में भारत में बाल दिवस हर वर्ष उनके जन्मदिन 14 नवंबर को मनाया जायेगा जिसके बाद से आज तक बाल दिवस इसी दिन मनाया जाता हैं।

पंडित नेहरू और बच्चे

हम सभी जानते है की पंडित नेहरू को बच्चों से कितना लगाव था एक ऐसा ही किस्सा से उनके इस लगाव की पुष्टि होती हैं ‘ एक बार की बात जवाहरलाल नेहरू प्रधानमंत्री आवास के अपने बगीचे में टहल रहते थे और वह खिले सुन्दर फूलों को देख रहे थे की तभी उन्हें किसी बच्चे की रोने की आवाज़ सुनाई दी जब उन्होंने आसपास देखा तो एक छोटा बच्चा पेड़ के नीचे रो रहा था, नेहरू जी ने आसपास उसकी माँ को देखा लेकिन वहां उन्हें कोई भी नज़र नहीं आया तब तक बच्चा और जोर से दहाड़े मारकर रोने लग गया, बच्चे को रोते हुए देखकर उन्हें से रहा नहीं गया और उन्होंने उस बच्चे को गोद में उठाकर उसे चुप कराने लगे, थोड़ी देर बाद बच्चा चुप होकर पंडित नेहरू की गोद में मुस्कुराने लगा, जब उस बच्चे की माँ वापस आयी तो उसे अपनी आँखों पर भरोसा नहीं हुआ की उसका बच्चा पंडित नेहरू की गोद में खेल रहा था।

khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *