कृषि बिलो के विरोध में , विधानसभा में प्रस्ताव पारित करेगी ममता|

कृषि बिलो के विरोध में , विधानसभा में प्रस्ताव पारित करेगी ममता|
khabar khalifa

देश की राजधानी दिल्ली में नए कृषि कानूनों को लेकर विरोध प्रदर्शन जारी है।  इस बीच ममता सरकार ने पश्चिम बंगाल विधानसभा का दो-दिवसीय विशेष सत्र बुधवार से बुलाया है। इस दो दिवसीय सत्र के दौरान ममता ने सरकार केंद्र सरकार के नए कृषि कानूनों के विरोध में प्रस्ताव लाएगी, जिसमें कानून रद करने की मांग उठाएंगी|
पश्चिम बंगला के  संसदीय कार्य मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि 28 जनवरी को विधानसभा के विशेष सत्र के दूसरे दिन  प्रस्ताव को नियम 169 के तहत पेश किया जाएगा।

उन्होंने कहा कि इस विषय पर पहले चर्चा होगी।  बता दें कि अभी तक पांच गैर भाजपा शासित राज्य- पंजाब, छत्तीसगढ़, राजस्थान, केरल और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी चाहती थी कि कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव को कांग्रेस के साथ मिलकर लाया जाए, लेकिन ममता सरकार का यह प्रस्ताव फेल हो गया।  दरअसल,  कांग्रेस इसे नियम 185 के तहत लाना चाहती थीं। राज्य के संसदीय कार्य मंत्री चटर्जी ने कहा कि वे इसी प्रस्ताव को नियम 185 के तहत लाना चाहते थे।  एक मुद्दे पर दो प्रस्ताव दो अलग-अलग नियमों के तहत लाने का क्या मतलब है? जब सरकार एक प्रस्ताव दे चुकी और उम्मीद है कि इसे स्वीकार कर लिया जाएगा। नियम 169 के तहत, सरकार विधानसभा में एक प्रस्ताव देती है, जबकि नियम 185 के तहत कोई भी पार्टी सदन में प्रस्ताव पेश कर सकती है। 

कृषि बिलो के विरोध में , विधानसभा में प्रस्ताव पारित करेगी ममता|

कांग्रेस द्वारा भी उठाये गए सवाल |

विपक्ष के नेता एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अब्दुल मन्नान ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस सरकार के पास केंद्र के नए  कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव लाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है क्योंकि राज्य सरकार ने भी कुछ साल पहले इसी तरह के कानून पारित किए थे। 

कृषि बिलो के विरोध में , विधानसभा में प्रस्ताव पारित करेगी ममता|
khabar khalifa
editor

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *